Life quotes

तन्हाई के आलम मे

जाने क्यो हर किसी के होते हुए भी
तन्हा मै खुद को अक्सर पाती हूँ
दिल की बाते किसी को ना समझा पाती हूँ
दोस्त नहीं है इस दुनिया मे मेरे ज्यादा
पर हर समय तन्हाई को अपने साथ पाती हूँ
बस मै औऱ मेरी तन्हाई
और कोई नहीं होता हमारे बीच
वो और मै एक दूसरे मे घंटो घंटो खो जाते है
ऐसे ही दिन से रात और रात से दिन गुजर जाते है

karateindelhi
Author: karateindelhi

Leave a Comment

Register For Open Mic Delhi